सामग्री (विषयवसतु)

content

list of authors

About Author

rasoulallah.net

rasoulallah.net

A great website on the sirah of the prophet Muhammad (peace be upon him) which introduce love toward our Prophet (SAW).

पैगंबर हज़रत मुहम्मद- शांति हो उन पर- के व्यवह

पैगंबर हज़रत मुहम्मद- शांति हो उन पर- के व्यवह

लेख

हज़रत मुहम्मद-शांति हो उन पर- ने गरीबी के डर से बच्चों की हत्या को निषिद्ध स्पष्ट किया इसी प्रकार किसी भी निर्दोष की हत्या से मना किया. पवित्र कुरान में अल्लाह का आदेश है

पैगंबर हज़रत मुहम्मद -उन पर शांति एवं आशीर्व

पैगंबर हज़रत मुहम्मद -उन पर शांति एवं आशीर्व

लेख

पैगंबर हज़रत मुहम्मद-उनपरशांतिएवंआशीर्वादहो-केविचारों, निर्देश, शिक्षा, सुझावों ,नैतिकता, आचरण और सिद्धांतों का एक बहुत बड़ा संग्रह है.इस्लाम की महिमा और उसकी महानता इनहीं आदर्शों पर टिकी हुई है.केवल उन में से एक हिस्से को यहाँदर्ज किया गया हैं.

पैगंबर मुहम्मद- एक साधारण मनुष्य

पैगंबर मुहम्मद- एक साधारण मनुष्य

लेख

नेता के रूप में सल्लाहू आलिहि व सल्लम अपनी स्थिति के बावजूद, पैगंबर मुहम्मद का व्यवहार अधिक से अधिक या अन्य लोगों की तुलना में वह अपने को बेहतर कभी नहीं समझते थे .वह कभी लोगों को नीच , अवांछित या शर्मिंदा नहीं होने देते थे . उन्होंने अपने साथियों को आग्रह किया की वे कृपया और विनम्र से जियें , जब भी हो तो गुलाम की रेहाई करें , दान दें , विशेष रूप से बहुत ही गरीब लोगों को और अनाथों को किसी भी प्रकार के इनाम की प्रतीक्षा किये बिना मदद करें.

अल्लाह के कृपादानों में सोच वीचार करना

अल्लाह के कृपादानों में सोच वीचार करना

लेख

हज़रत पैगंबर -उन पर इश्वर की कृपाऔर सलाम हो-ने कहा: अल्लाह के कृपादानों के बारे में सोचो , और अल्लाह में मत सोचो lइसे तबरानी ने "अव्सत" में और बैहक़ी ने "शुअब" में उल्लेख किया है और अलबानी ने इसे विश्वशनीय बताया l

हज़रत पैगंबर-उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो- अपनी पवित्र पत्नियों के साथ किस तरह व्यवहार करते थे?

हज़रत पैगंबर-उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो- अपनी पवित्र पत्नियों के साथ किस तरह व्यवहार करते थे?

लेख

हज़रत पैगंबर-उन पर इश्वर की कृपा और सलाम हो- अपनी पवित्र पत्नियों के साथ किस तरह व्यवहार करते थे?

हज़रत पैगंबर-उन पर ईश्वर की कृपा और सलाम हो-ने पुरुषों को अपनी पत्नियों के साथ अच्छा बर्ताव करने की सलाह दी

हज़रत पैगंबर-उन पर ईश्वर की कृपा और सलाम हो-ने पुरुषों को अपनी पत्नियों के साथ अच्छा बर्ताव करने की सलाह दी

लेख

हज़रत पैगंबर-उन पर ईश्वर की कृपा और सलाम हो-ने पुरुषों को अपनी पत्नियों के साथ अच्छा बर्ताव करने की सलाह दी

मुखबंध

मुखबंध

लेख

अल्लाह ने मनुष्यों को बनाया और उनके पास नबी और पैगंबर भेजे, और चमत्कारों के साथ उनका समर्थन किया ताकि वे चमत्कार इस बात पर संकेत करें कि वे पैगंबर जिस चीज़ और कार्य की ओर बुला रहे हैं वह सच और सही है, और ताकि वे चमत्कार लोगों पर हुज्जत (प्रमाण) हो जाऐं ताकि कोई व्यक्ति यह न कह सके कि हमारे पास (अल्लाह के अज़ाब से) कोई डराने वाला नहीं आया, और न ही कोई पैगंबर आया ताकि हमें अच्छाई का रास्ता वताता और बुराई से मना करता, पैगंबर और नबी सबसे अच्छे लोग हैं। अल्लाह ने उन्हें चुना ताकि वे ( लोगों तक ) उसका संदेश पहुंचाऐं, और उन्हें अल्लाह की एकता बयान करने की ओर बुलाऐं और उन्हें शिर्क, कुफ्र और गुनाह से डराऐं। सबसे अंतिम पैगंबर व नबी हज़रत मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) सबसे अच्छे नैतिकता वाले मानव थे, जैसा कि अल्लाह ने अपने नबी (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) की नैतिकता को बयान करते हुए फरमाया :(और बेशक तुम्हारे एख़लाक़ बड़े आला दर्जे के हैं )

मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) अपने आप के साथ

मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) अपने आप के साथ

लेख

वह एक महान व्यक्ति थे, उन्होंने महानता को बनाया महानता ने उन्हें नहीं, उन्होंने अपने सिद्धांत पर अपने आत्मविश्वास और दृढ़ता( स्थिरता) के माध्यम से अपनी महानता का निर्माण किया,वह अपने दुश्मनों और दोस्तों सभी लोगों के साथ अच्छे व्यवहार,उच्च नैतिकता,कोमलता ,विनम्रता और सरलता से मिलते थे, तथा उसके अलावा भी जटिलता, दिखावा, ढोंग और अहंकार से दूर उनके महान गुण थे।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) अपने परिवार के साथ

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) अपने परिवार के साथ

लेख

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम)  के निजी जीवन को पढ़ने वाला को ,उस व्यक्ति पर आश्चर्य होगा, कि जो अज्ञानता और अराजकतावाद से भरे हुए  कठोर और रेगिस्तान वातावरण से आया तो वह अतुलनीय पारिवारिक सफलता के उच्चतम स्तर तक कैसे पहुंच सकता है?

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) अच्छी नैतिकता वाले व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) अच्छी नैतिकता वाले व्यक्ति थे

लेख

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) की सबसे सुंदर विशेषताओं में से जिन में वह सभी लोगों से अलग हैं एक विशेषता यह है कि वह अपने पास और दूर वाले, शत्रु और मित्र सभी लोगों के साथ उच्च नैतिकता से मिलते थे और यह बात हर एक न्यायी व्यक्ति जानता है।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) ज्ञान और सभ्यता (संस्कृति) के व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) ज्ञान और सभ्यता (संस्कृति) के व्यक्ति थे

लेख

वह कैसे ज्ञान और सभ्यता के व्यक्ति न होंगे जबकि उनकी पवित्र पुस्तक (कुरान) में उन पर सबसे पहले उतरने वाला शब्द "पढ़ " था जिसके द्वारा  पढ़ने का आदेश दिया गया, इसके अलावा पवित्र कुरान में एक सुरह है जिसका नाम कलम है जो ज्ञान प्राप्त करने का पहला साधन और उपकरण है।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) सहनशीलता के व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) सहनशीलता के व्यक्ति थे

लेख

लेकिन अब प्रशन यह है कि क्या पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) इस जवाब से संतुष्ट और सहमत थे? क्या वह इस बात से प्रसन्न हुए कि उनकी पत्नी ने उन्हें अपमानित करने वालों को अभिशाप दिया?

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) धर्म और राज्य वाले व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) धर्म और राज्य वाले व्यक्ति थे

लेख

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) ने भौतिकवादी जीवन के कारण लगी हुई आत्मा की चोटों को ठीक किया, और इसी तरह से उन्होंने भौतिक आवश्यकताओं के उस छेद को भर दिया जो केवल आत्मिक आवश्यकताओं को पूरा करने के कारण हो गया था।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) सौंदर्य और लालित्य के व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) सौंदर्य और लालित्य के व्यक्ति थे

लेख

यदि आप उन चीजों के बारे में पता करेंगे जिन्हें पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व ) सबसे अधिक पसंद करते थे, तो आपको तीन चीजों मिलेंगी, उनमें से पहली चीज़ इत्र (खुश्बू) है।

मुस्कान पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) का आदर्श वाक्य थी

मुस्कान पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) का आदर्श वाक्य थी

लेख

सामाजिक संकटों और मानसिक रोगों से भरे हुए आज के इस ज़माने में हर समय हमें अपने चेहरे पर उसी तरह मुस्कान बनाए रखना बहुत ज़्यादा महत्वपूर्ण और आवश्यक है जैसे कि पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) ने अपने अनुयायियों को हर समय रखने के लिए कहा था।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) धैर्य (सहनशीलता ) और सुंदर व महान क्षमा करने वाले व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) धैर्य (सहनशीलता ) और सुंदर व महान क्षमा करने वाले व्यक्ति थे

लेख

जो भी महापुरुषों और राजाओं के इतिहास को पढ़ेगा तो वह पैगंबरों और नबियों के अलावा सभी में एक गुण और विशेषता सामान्य पाएगा, वह यह कि वे हारे हुए युद्धों का जीत जाने वाले युद्धों में बदला लेते थे।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) आसानी और सरलता वाले व्यक्ति थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) आसानी और सरलता वाले व्यक्ति थे

लेख

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम )लोगों पर आसानी करना और उनके कार्यों को सरल बनाना पसंद करते थे। और उन्हें लोगों पर कठोरता और सख़्ती करना और उन पर कार्यों में तंगी करना पंसद नहीं था।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) मृदु हृदय वाले साथी थे

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) मृदु हृदय वाले साथी थे

लेख

किसी ऐसे व्यक्ति के प्रति आपकी प्रतिक्रिया क्या होगी जो किसी ऐसी चीज़ का अपमान करे जो आप के लिए वास्तव में बहुत ज़्यादा महत्वपूर्ण है और जिसे आप बहुत प्यार करते हैं? 

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) महान और उच्च व्यायाम को प्रोत्साहित करते थे।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम) महान और उच्च व्यायाम को प्रोत्साहित करते थे।

लेख

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम )ने अपने अनुयायियों को महान और उच्च व्यायामों को करने( या इस तरह के खेलों का अभ्यास करने) पर प्रोत्साहित किया, जो तन धन और आत्मा को बर्बाद और नैतिकता को भ्रष्ट किए बिना शरीर को मज़बूत बनाने, आत्मा को आराम देने और समाज को लाभ पहुंचाने पर आधारित थे।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) विशिष्ट और असाधारण नागरिय नियोजन के निर्माता हैं

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) विशिष्ट और असाधारण नागरिय नियोजन के निर्माता हैं

लेख

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) ने  एक बंजर रेगिस्तान में जो एक अनूठी और अद्भुत  सांस्कृतिक प्रणाली का निर्माण किया जो पहले किसी ने कभी नहीं देखा थी। और यह योजना की सटीकता व महानता और आकर्षक व सुंदर रूप से राज्य और समाज के हितों का ध्यान रखने में सबसे अलग और निराली थी। 

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) एक महान शिक्षक थे।

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) एक महान शिक्षक थे।

लेख

निष्पक्ष व ईमानदार शोधकर्ता उस अद्भुत क्षमता को देखकर आश्चर्यचकित हो जाएगा जो पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम ) को प्राप्त थी, जिसके द्वारा उन्होंने एक ऐसी क़ोम को जो लिखना और पढ़ना नहीं जानती थी , एक ऐसी क़ोम में बदल दिया जो ज्ञान पर गर्व करने लगी। और राज्य और समाज में बहुत उच्च स्तर के विद्वान होने लगे।

कमज़ोर मोमिन की तुलना में शक्ति शाली (ताक़तवर ) मोमिन अधिक अच्छा और अल्लाह को अधिक प्रिय है रहो "

कमज़ोर मोमिन की तुलना में शक्ति शाली (ताक़तवर ) मोमिन अधिक अच्छा और अल्लाह को अधिक प्रिय है रहो "

लेख

कमज़ोर मोमिन की तुलना में शक्ति शाली (ताक़तवर ) मोमिन अधिक अच्छा और अल्लाह को अधिक प्रिय है रहो "

" जो व्यक्ति अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान और विश्वास रखता है, वह अपने पड़ोसी को कष्ट न पहुंचाए

" जो व्यक्ति अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान और विश्वास रखता है, वह अपने पड़ोसी को कष्ट न पहुंचाए

लेख

" जो व्यक्ति अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान और विश्वास रखता है, वह अपने पड़ोसी को कष्ट न पहुंचाए

तुम में से कोई जब किसी ऐसे व्यक्ति को देखे जो माल व दौलत और खू़बसूरती (सुन्दरता) में उससे अच्छा है, तो उसे अपने से नीचे वाले को (भी) देखना चाहिए

तुम में से कोई जब किसी ऐसे व्यक्ति को देखे जो माल व दौलत और खू़बसूरती (सुन्दरता) में उससे अच्छा है, तो उसे अपने से नीचे वाले को (भी) देखना चाहिए

लेख

तुम में से कोई जब किसी ऐसे व्यक्ति को देखे जो माल व दौलत और खू़बसूरती (सुन्दरता) में उससे अच्छा है, तो उसे अपने से नीचे वाले को (भी) देखना चाहिए