पिछले सभी पापों के लिए क्षमा

जब कोई इस्लाम में शामिल होता है, तो ईश्वर उसके पिछले सभी पापों और बुरे कर्मों को क्षमा कर देता है। अमर नाम का एक आदमी पैगंबर मुहम्मद के पास आया (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) और कहा, "मुझे अपना दाहिना हाथ दीजिए ताकि मैं आपके वफादारी की प्रतिज्ञा दे सकूं।" पैगंबर मुहम्मद ने अपना दाहिना हाथ बढ़ाया। लेकिन अमर ने अपना  हाथ हटा लिया। नबी ने कहा: "हे अमर, तुम्हें क्या हुआ?" उसने उत्तर दिया, "मैं एक शर्त रखना चाहता हूं।" नबी ने पूछा: "आपकी क्या शर्त हैं?" अम्र ने कहा, "कि ईश्वर मेरे पापों को क्षमा कर दे।" नबी, (ईश्वर की दया और आशीर्वाद उन पर हो) ने कहा: "क्या आप नहीं जानते कि इस्लाम में शामिल होने से पिछले सभी पाप मिट जाते हैं?”[1]

इस्लाम में शामिल होने के बाद, व्यक्ति को उसके अच्छे और बुरे कर्मों के फल पैगंबर मुहम्मद के निम्नलिखित कथन के अनुसार मिलेगा: "आपका ईश्वर, जो धन्य और महान है, और सबसे दयालु है। अगर कोई अच्छा काम करना चाहता है लेकिन नहीं करता है, तो उसके लिए एक अच्छा काम दर्ज किया जाएगा, और अगर वह ऐसा (अच्छे काम को) करता है, तो उसके लिए दस से सात सौ या कई गुना अधिक अच्छे काम दर्ज किए जाएंगे, और अगर कोई बुरा काम करना चाहता है, लेकिन वह नहीं करता है, तो उसके लिए एक अच्छा काम दर्ज किया जाएगा, और यदि वह ऐसा करता है, तो उसके विरुद्ध एक बुरा काम दर्ज किया जाएगा या ईश्वर उसे मिटा देगा।”[2]

अपनी भाषा चुनिए