सामग्री (विषयवसतु)

की सूचीvideos

Videos

जो व्यक्ति अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान और विश्वास रखता है, वह अपने पड़ोसी को कष्ट न पहुंचाए

जो व्यक्ति अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान और विश्वास रखता है, वह अपने पड़ोसी को कष्ट न पहुंचाए

जो व्यक्ति अल्लाह और आखिरत के दिन पर ईमान और विश्वास रखता है, वह अपने पड़ोसी को कष्ट न पहुंचाए

जो चीज़ तूझे शक में डाले उसे छोड़कर ऐसी चीज़ ले जो तुझे शक में न डाले

जो चीज़ तूझे शक में डाले उसे छोड़कर ऐसी चीज़ ले जो तुझे शक में न डाले

जो चीज़ तूझे शक में डाले उसे छोड़कर ऐसी चीज़ ले जो तुझे शक में न डाले

गुस्सा मत कर (क्रोधित न हो)

गुस्सा मत कर (क्रोधित न हो)

गुस्सा मत कर (क्रोधित न हो)

कहो- में अल्लाह पर ईमान लाया, फिर ईसी पर क़ायम रहो

कहो- में अल्लाह पर ईमान लाया, फिर ईसी पर क़ायम रहो

कहो- में अल्लाह पर ईमान लाया, फिर ईसी पर क़ायम रहो

कमज़ोर मोमिन की तुलना में शक्ति शाली (ताक़तवर ) मोमिन अधिक अच्छा और अल्लाह को अधिक प्रिय है रहो

कमज़ोर मोमिन की तुलना में शक्ति शाली (ताक़तवर ) मोमिन अधिक अच्छा और अल्लाह को अधिक प्रिय है रहो

कमज़ोर मोमिन की तुलना में शक्ति शाली (ताक़तवर ) मोमिन अधिक अच्छा और अल्लाह को अधिक प्रिय है रहो

ऊपर वाला (देने वाला हाथ) नीचे वाले (लेने वाले ) हाथ से बेहतर है

ऊपर वाला (देने वाला हाथ) नीचे वाले (लेने वाले ) हाथ से बेहतर है

ऊपर वाला (देने वाला हाथ) नीचे वाले (लेने वाले ) हाथ से बेहतर है

(सत्यनिष्ठा और धार्मिकता पर) सुदृढ़ और जमे रहो भले ही आप सभी अच्छे कार्यों को नहीं कर सकते

(सत्यनिष्ठा और धार्मिकता पर) सुदृढ़ और जमे रहो भले ही आप सभी अच्छे कार्यों को नहीं कर सकते

(सत्यनिष्ठा और धार्मिकता पर) सुदृढ़ और जमे रहो भले ही आप सभी अच्छे कार्यों को नहीं कर सकते

अल्लाह से शर्म व ह़या करो जैसा कि शर्म व ह़या करने का ह़क है

अल्लाह से शर्म व ह़या करो जैसा कि शर्म व ह़या करने का ह़क है

अल्लाह से शर्म व ह़या करो जैसा कि शर्म व ह़या करने का ह़क है

मेरे हिन्दू दोस्त को एक संदेश

मेरे हिन्दू दोस्त को एक संदेश

हर हिन्दू के लिए दिल से एक संदेश, जिसकी आंखों पर पर्दा पड़ा है, और सच्चाई तक नहीं पहुंचना चाहता है। एक संदेश जो आपके लिए एक साफ-सुथरी प्रकृति (स्वभाव या फि़त्रत) लिए हुए है, और जिसमें आपके उन सवालों के जवाब हैं जो आप आपने आप से अपने बचपन से पूछते आये हैं लेकिन आपको उनका संतुष्ट जवाब नहीं मिला पाया... एक ऐसा संदेश जो आपको सहीह और तर्कसंगतता (यानी बुद्धिमत्ता) का रास्ता बताएगा और आपको उस सच्चे ईश्वर से मिला देगा जिसे आप बचपन से खोज रहे हैं। यह मेरे हिन्दू दोस्त के लिए एक संदेश है। दिल से सुनो..और दिमाग से फैसला करो।

अज़ान का उत्तर देने की प्रमुखता

अज़ान का उत्तर देने की प्रमुखता

अज़ान का उत्तर देने की प्रमुखता

नाते जोड़ने की प्रमुखता

नाते जोड़ने की प्रमुखता

नाते जोड़ने की प्रमुखता

सूरह बक़रह की अंतिम दो आयतों की प्रमुखता

सूरह बक़रह की अंतिम दो आयतों की प्रमुखता

सूरह बक़रह की अंतिम दो आयतों की प्रमुखता