सामग्री (विषयवसतु)

की सूचीbooks

Books

इस्लाम के सिद्धान्त और उसके मूल आधार

इस्लाम के सिद्धान्त और उसके मूल आधार

इस पुस्तक में इस्लाम और उसके स्तंभों को परिभाषित करते हुए तथा कुछ अन्य मुद्दों का उल्लेख करते हुए, संक्षेप में इस्लाम का परिचय प्रस्तुत किया गया है। चुनाँचे सबसे पहले संक्षेप में ब्रह्माण्ड की रचना, उसकी रचना की तत्वदर्शिता, मनुष्य की रचना और उसका सम्मान, महिला का स्थान, मनुष्य की पैदाइश की हिक्मत, मनुष्य को धर्म की आवश्यकता, सच्चे धर्म का मापदंड, धर्मों के प्रकार, वर्तमान धर्मों की स्थिति, नबूवत (ईश्दूतत्व) की वास्तविकता, नबूवत की निशानियाँ, मानव जाति को संदेष्टाओं की ज़रूरत, आख़िरत, रसूलों की दावत के नियम एवं सिद्धांत, अनन्त सन्देश, खत्मे नबूवत का वर्णन किया है। फिर इस्लाम और उसके स्तंभो को परिभाषित करते हुए, धर्म की श्रेणियों और इस्लाम धर्म की कुछ अच्छाईयों का उल्लेख किया गया है।

लोग चाहे करें तुच्छज्ञान मगर हैं हराम

लोग चाहे करें तुच्छज्ञान मगर हैं हराम

इस किताब में है : • कुरआन और हदीस की रोशनी में चंद हराम चीज़ों का बयान जिन्हें करते हुए बहुत सारे लोग गुरेज़ नहीं करते हैं , जैसेः अल्लाह के शिर्क करना , कब्रों की इबादत करना , सूद , रिश्वत और ज़िना वगैरा ।

ईमान के मूल आधार

ईमान के मूल आधार

इस किताब में है : • इस्लाम धर्म हर युग , हर स्थान तथा हर सामुदाय के लिए उपयोगी है • कुरआन और हदीस की रोशनी में इस्लाम और ईमान के अरकान • इस्लामी अक़ीदा के मक़ासिद ( लक्ष्य - उद्देश ) ।

इस्लामी अकीदा की चंद झलकीयाँ

इस्लामी अकीदा की चंद झलकीयाँ

इस किताब में है : • बंदों पर अल्लाह का हक़ • प्यारा दीन इस्लाम है • इस्लाम की तफ़सीर का मसदर • कुफ और ईमान • अल्लाह के असमा व सिफ़ात • अक्ल और वय • शरीअत साज़ी • तकदीर • हाकिम की इताअत • जिहाद • हुर्रियत का मतलब ।

नमाज़ नबी की का तरीका

नमाज़ नबी की का तरीका

इस किताब में है : • तक्बीर से सलाम तक नमाज़ का तरीका • नमाज़ के अरकान , उसके वाजिबात और उसकी सुन्नतें • मर्दो पर जमाअत के नमाज़ पढ़ना वाजिब है • गाने बजाने , तस्वीर कशी , दाढ़ी मुंडाने , टख्नों के नीचे कपड़ा लटकाने और बीड़ी - सिगरेट पीने का विधान ।

अनमोल पैग़ाम हाजीयों के नाम

अनमोल पैग़ाम हाजीयों के नाम

इस किताब में है : • वह जगहें जिनकी इबादत के तौर पर ज़ियारत करना अस्लन मशरूञ् ( मूलतः शरीअत सम्मत ) ही नहीं है • वह जगहें जिनकी इबादत के तौर पर जियारत करना उमुमन मशरूभू ( साधारणतः शरीअत सम्मत ) है . सबआ मसाजिद ( सात मस्जिदों ) की हकीकृत ।

हज्ज , उम्रह व मस्जिदे नबवी की ज़ियारत संबंधी गाइड

हज्ज , उम्रह व मस्जिदे नबवी की ज़ियारत संबंधी गाइड

इस किताब में है : • इस्लाम से ख़ारिज करने वाली बातें • उम्रह का तरीका • हज्ज का विवरण • मस्जिदे नबवी की ज़ियारत • ग़लतियाँ जिनका इर्तिकाब बाज़ हाजी करते हैं • दुआएं ।

एकमात्र प्रभु अल्लाह का आश्रय लेना आवश्यक है

एकमात्र प्रभु अल्लाह का आश्रय लेना आवश्यक है

इस किताब में है । इस बात की ताईद में दस तरह की दलीलें कि एकमात्र प्रभु अल्लाह का आश्रय लेना आवश्यक है । दुआ इबादत है और वह सिर्फ अल्लाह ही का हक है । गैरुल्लाह से ऐसी चीजें माँगना जिन पर अल्लाह के अलावा कुदरत नहीं रखता शिर्क है । अम्बिया व रुसुल और नेक लोग यहाँ तक कि फ़रिश्ते भी अल्लाह के अलावा किसी को पुकारते थे और न ही उन से माँगते थे । उनकी इत्तिबा करना ज़रूरी है ।

हज्ज के भेद और उसके मकासेद

हज्ज के भेद और उसके मकासेद

इस किताब में है : • इतमामे हज्ज ( हज्ज को पुरा करना ) • हज्ज के भेद और मकासेद में सेः सिर्फ अल्लाह के लिए महब्बत , अज़मत , उम्मीद , खैफ , तवक्कुल , इनाबत और ख़ाकसारी साबित करना है • मक्का मुकर्रमा एक बे आब व गियाह वादी ( बंजर और अनावाद भूमी ) में क्यों वाके है ? "

सच्चा रास्ता

सच्चा रास्ता

इसमें कोई संदेह नहीं कि यह दुनिया नश्वर है, और परलोक का जीवन ही सदैव बाक़ी रहने वाला और मनुष्य का स्थायी घर है। यह सांसारिक जीवन मात्र एक परीक्षा और परलोक की तैयारी और उसकी खेती है। तथा लोक और परलोक की सफलता और सौभाग्य प्राप्त करने का एकमात्र रास्ता वह सीधा मार्ग है जिसे हमारे संदेष्टा मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम लेकर आए हैं। अतः जो व्यक्ति इस पर चलेगा वह सफल होगा और जो उससे उपेक्षा करेगा वह घाटे में रहेगा। इस पुस्तिका में उसी रास्ते का निर्देशन किया गया है।

नव मुस्लिम मार्गदर्शिका

नव मुस्लिम मार्गदर्शिका

नवमुस्लिम मार्गदर्शिका : यह हिंदी में अनूदित एक बहुमूल्य पुस्तक है, जिसमें इसलाम धर्म ग्रहण करने वाले नवमुस्लिमों को चित्रों एवं आकृतियों के माध्यम से ऐसे निर्देश दिए गए हैं, जिनके ज़रिए वे इसलाम को आसानी से समझ सकें। दरअसल, यह उन सीमित कार्यों में से एक है, जो विशेष रूप से नवमुस्लिमों को सामने रखकर किए गए हैं, जिन्हें इसलाम की मूल शिक्षाओं के बारे में सही जानकारी की अधिक आवश्यकता होती है। इस पुस्तिका में बहुत ही आसान एवं सरल अंदाज़ में फ़िक़्ह के सभी मसायल, अक़ीदा संबंधी संदेहों और शरई पारिभाषिक शब्दों को ध्यान में रखते हुए सप्रमाण शिक्षा प्रदान करने की पद्धति अपनाई गई है।

इस्लाम धर्म की खूबियाँ

इस्लाम धर्म की खूबियाँ

इस्लाम ही वह एकमात्र सच्चा धर्म है, जिसे अल्लाह तआला ने सर्व मानव जाति के लिए पसंद कर लिया है। अतः वह किसी भी व्यक्ति से इस्लाम के सिवा कोई दूसरा धर्म कदापि स्वीकार नहीं करेगा। इस्लाम मानव के सौभाग्य और सफलता का धर्म है, तथा वही वह धर्म है जिसने मनुष्य के व्यक्तिगत, या पारिवारिक, या सामुदायिक या सर्व मानव जाति से संबंधित मामलों में ऐसे सूक्ष्म आचार और उचित ढंग, तौर-तरीक़े सिखाये हैं जिन से उसका जीवन सुलभ हो सकता है, उसकी खुशी संपन्न हो सकती है और उसको सच्चा सौभाग्य प्राप्त हो सकता है। इस पुस्तक में इस्लाम के उन्हीं कुछ गुणों और विशेषताओं का उल्लेख किया गया है।