हज्ज के भेद और उसके मकासेद

इस किताब में है : • इतमामे हज्ज ( हज्ज को पुरा करना ) • हज्ज के भेद और मकासेद में सेः सिर्फ अल्लाह के लिए महब्बत , अज़मत , उम्मीद , खैफ , तवक्कुल , इनाबत और ख़ाकसारी साबित करना है • मक्का मुकर्रमा एक बे आब व गियाह वादी ( बंजर और अनावाद भूमी ) में क्यों वाके है ? "

अपनी भाषा चुनिए