सामग्री (विषयवसतु)

content

Content of article

पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम )ने अपने अनुयायियों को महान और उच्च व्यायामों को करने( या इस तरह के खेलों का अभ्यास करने) पर प्रोत्साहित किया, जो तन धन और आत्मा को बर्बाद और नैतिकता को भ्रष्ट किए बिना शरीर को मज़बूत बनाने, आत्मा को आराम देने और समाज को लाभ पहुंचाने पर आधारित थे।

उन्होंने स्वयं कुछ व्यायामों जैसे दौड़, कुश्ती और घुड़सवारी का अभ्यास किया।

लेकिन पैगंबर मुह़म्मद (सल्लल्ललाहु अलैहि व सल्लम)के संविधान में खेल के लिए यह शर्त है कि वह महान व्यायाम, और उच्च नैतिकता और उदात्त लक्ष्यों के साथ हो।

टिप्पणियाँ (कमेंट) या राऐं